नीला सियार पंचतंत्र की कहानी हिंदी में, Blue Jackal Panchtantra Story In Hindi

 

नीला सियार पंचतंत्र की कहानी हिंदी में, Blue Jackal Panchtantra Story In Hindi

नीला सियार पंचतंत्र की कहानी हिंदी में, Blue Jackal Panchtantra Story In Hindi

Panchtantra, Panchtantra Stories, Panchtantra Stories In Hindi, Panchtantra ki Kahaniyan, Panchtantra Stories in Hindi with Moral Values

बहुत पहले की बात हैं एक जंगल में एक चालाक सियार रहता था. एक बार जंगल में बहुत ही तेज गति से हवा चल रही थी. सियार तेज गति से चल रही हवा से बचाव के लिए एक वृक्ष की ओट में खड़ा हो गया.

तभी अचानक उस वृक्ष की एक डाल टूटकर सियार के ऊपर गिर पड़ी जिससे सियार को सिर में गंभीर चोट लग गई. सिर में चोट लगने की वजह से सियार घबरा गया और अपनी मांद में वापस चला गया.

सियार को बहुत गहरी चोट लगी थी जिसकी वजह से वह शिकार पर नहीं जा पा रहा था. भोजन न मिल पाने की वजह से सियार बहुत कमजोर होने लगा था.

एक दिन सियार को अपनी मांद के पास में एक हिरन दिखलाई पड़ा. सियार ने हिरन का शिकार करने के लिए काफी दूर तक उसका पीछा किया परन्तु सियार हिरन का शिकार न कर सका.

सियार दिनभर भूखा - प्यासा एवं थका - हारा जंगल में शिकार खोजता रहा परन्तु उसे कोई भी शिकार नहीं मिला. जंगल में शिकार न मिल पाने की वजह से सियार ने गाँव की ओर जाने का निर्णय लिया.

Panchtantra Stories In Hindi

सियार को लगा कि गाँव में कोई बकरी, मुर्गी, कोई अन्य जानवर मिल जायेगा जिसको खाकर वह अपनी भूख मिटा सकेगा.

सियार गाँव में अपने लिए शिकार की तलाश कर रहा था कि तभी उसको अपनी तरफ आ रहे कुत्तों के झुण्ड दिखाई दिए. कुत्तें सियार को देखकर भोंक रहे थे जिससे सियार डर गया और कुत्तों के झुण्ड से बचने के लिए भागने लगा.

भागते भागते सियार धोबियों की बस्ती में पहुँच गया और जाकर एक ड्रम में छिप गया. उस ड्रम में नील मिश्रित पानी रखा था. ड्रम में छिपने की वजह से कुत्तों को सियार नहीं मिल पाया और कुतों का झुण्ड वापस चला गया.

बेचारा सियार रातभर उस ड्रम में छिपा बैठा रहा. सुबह जब सियार ड्रम से बाहर निकला तो सियार ने देखा कि नील मिश्रित पानी की वजह से उसका शरीर नीले रंग का हो गया हैं. सियार को अपने शरीर का नीला रंग देखकर एक युक्ति सूझी और वह जंगल वापस चला आया.

जंगल में आकर उसने घोषणा की कि जंगल के सभी जानवर एक जगह इकठ्ठा हो जाये, वह जंगल के सभी जानवरों को भगवान् का एक सन्देश सुनाना चाहता हैं. नीला सियार की घोषणा सुनकर जंगल के सभी जानवर एक बहुत बड़े वृक्ष के नीचे इकठ्ठा हो गए.

Panchtantra Stories

नीले सियार ने सभी जानवरों से एक प्रश्न पूछा कि क्या कभी किसी जानवर ने कोई  नीले रंग का जानवर देखा हैं? सभी जानवरों ने एक स्वर में कहा कि नहीं.

नीले सियार ने सभी जानवरों से कहा कि मुझे यह नीला रंग भगवान् ने प्रदान किया हैं और मुझे जंगल पर राज करने और जंगल के सभी जानवरों के मार्गदर्शन के लिए भेजा हैं.

जंगल के सभी जानवर नीला सियार की बात से सहमत हो गए और नीले सियार को अपना राजा मान लिया. जंगल के सभी जानवरों ने नीला सियार से एक स्वर में पूछा कि महाराज हमारे लिए क्या आदेश हैं?

नीला सियार ने कहा कि सबसे पहले इस जंगल से सभी सियार चले जाएँ क्योंकि उनकी वजह से इस जंगल पर बहुत भयानक आपदा आ सकती हैं.

नीला सियार के आदेश को भगवान् का आदेश मानते हुए जंगल के सभी जानवरों ने जंगल के सभी सियारों को जंगल के बाहर खदेड़ दिया. चालाक नीले सियार ने यह आदेश इसलिए दिया था क्योंकि यदि जंगल में अन्य सियार रहते तो उसकी असलियत सबके सामने आ सकती थी.

Panchtantra ki Kahaniyan

जंगल का राजा बनने के बाद  नीला सियार दिनभर अपनी शाही मांद में ही रहता था. जंगल के सभी जानवर दिनभर उसकी सेवा में लगे रहते थे. कोई जानवर उसे पंखा झलता था तो कोई जानवर उसके पैर दबाता था. जब नीला सियार को भूख लगती थी तो वह किसी जानवर की बलि मांग लेता था.

एक दिन चांदनी रात के समय नीला सियार को बहुत जोर की प्यास लगी थी. पानी पीने के लिए नीला सियार अपनी शाही मांद से बाहर निकला तो उसे सियारों की हू हू की आवाज सुनाई पड़ी. यह वही सियार थे जिन्हें नीला सियार के आदेश पर जंगल के जानवरों ने जंगल के बाहर खदेड़ दिया था, जिन्होंने जंगल के बाहर कही ठिकाना बना लिया था.

सियारों की आदत होती हैं कि वह रात में हू हू की आवाज निकालते हैं. यदि एक सियार हू हू की आवाज करता हैं तो उसे सुनकर अन्य सियार भी हू हू की आवाज करने लगते हैं. सियारों की हू हू की आवाज सुनकर नीला सियार अपने आप को न रोक पाया और आदतन वह भी हू हू की आवाज करने लगा.

नीला सियार की हू हू की आवाज सुनकर आसपास के जानवर नींद से जाग गए. सभी जानवरों ने नीले सियार को हू हू की आवाज निकालते देखा. इससे सभी जानवर नीला सियार को पहचान गए कि यह तो सियार हैं.

अब नीला सियार की असलियत सभी के सामने आ चुकी थी. नीला सियार को पहचानते ही सभी जानवारों ने मिलकर नीला सियार को मार डाला.

Panchtantra Stories in Hindi with Moral Values

नीला सियार पंचतंत्र की कहानी (Blue Jackal Panchtantra Story In Hindi) से सीख

नीला सियार पंचतंत्र की कहानी (Blue Jackal Panchtantra Story In Hindi) से यह शिक्षा मिलती हैं कि हमें जीवन में कभी झूठ नहीं बोलना चाहिये. आप किसी को भी झूठ का सहारा लेकर अधिक दिनों तक मूर्ख नहीं बना सकते हैं. कभी न कभी झूठ पकड़ में आ जाता हैं.

Post a comment

0 Comments